WhatsApp की नई पॉलिसी ऐसे होगी फायदेमंद, बता रहे हैं साइबर एक्‍सपर्ट


whatsapp नई पॉलिसी को लेकर साइबर एक्‍सपर्ट ने अपनी राय दी है.

whatsapp नई पॉलिसी को लेकर साइबर एक्‍सपर्ट ने अपनी राय दी है.

एक्‍सपर्ट कहते हैं कि फेसबुक के पास भी यूजर की लोकेशन, उसकी गैलरी, फोन नंबर, फोन, बैंक खातों की जानकारी होती है. फेसबुक (Facebook) पर आपका किया गया एक क्लिक आपके बारे में जानकारी दे देता है. वहीं लोग खुद भी लोकेशन और तस्‍वीरें डालकर निजी जान‍कारियां शेयर करते हैं. अब वॉट्सऐप (Whatsapp) के साथ भी लगभग वही होगा.

  • News18Hindi

  • Last Updated:
    January 13, 2021, 10:43 PM IST

नई दिल्‍ली. वॉट्सऐप (WhatsApp) की नई पॉलिसी को लेकर लोगों में डर और चिंता का माहौल है. यही वजह है कि सोशल मीडिया पर हर तीसरा व्‍यक्ति वॉट्सऐप पर प्राइवेसी (Privacy on Whatsapp) को लेकर एक दूसरे को सलाह दे रहा है साथ ही इसके विकल्‍प के रूप में कुछ और एप्‍लीकेशन जैसे सिग्‍नल (Signal) और टेलीग्राम (Telegram) इंस्‍टॉल करने की अपील की जा रही है. हालांकि लोगों के इस डर पर साइबर एक्‍सपर्ट कुछ और ही कह रहे हैं.

दिल्ली पुलिस के साइबर क्राइम एक्सपर्ट (Cyber Crime Expert) और इंडियन साइबर आर्मी के चेयरमैन किसलय चौधरी कहते हैं कि वॉट्सऐप की नई पॉलिसी (WhatsApp New Policy) को लेकर उठाए जा रहे सवाल सही हैं लेकिन उसके जवाब पूरे दिया जाना जरूरी है. ऐसा न होने पर ही लोगों का डर बढ़ रहा है. हालांकि इस नई पॉलिसी से उस व्‍यक्ति को डरना नहीं चाहिए जो पहले से फेसबुक चला रहा है, उसकी जानकारी पहले से फेसबुक (Facebook) के पास है. अब उसके वॉट्सऐप की जानकारी भी फेसबुक के पास ही जाएगी.

चौधरी कहते हैं कि इस पॉलिसी के बाद वॉट्सऐप फेसबुक जैसा हो जाएगा. वह वॉट्सऐप की जानकारी को उसी प्रकार बेचेगा या बेचने की संभावना होगी जैसा फेसबुक के बारे में कहा जाता रहा है. फेसबुक के पास भी यूजर की लोकेशन, उसकी गैलरी, फोन नंबर, फोन, बैंक खातों की जानकारी होती है. फेसबुक पर आपका किया गया एक क्लिक आपके बारे में जानकारी दे देता है. वहीं लोग खुद भी लोकेशन और तस्‍वीरें डालकर निजी जान‍कारियां शेयर करते हैं. अब वॉट्सऐप के साथ भी लगभग वही होगा. हालांकि वह फेसबुक की तरह पब्लिक नहीं होगा. बल्कि इसकी जानकारी संबंधित कंपनी के पास होगी. जहां तक आपके डेटा (Data) को बेचे जाने को लेकर सवाल है तो इसे लेकर अभी तक कोई ठोस तथ्‍य सामने नहीं आया है.

अपराध को पकड़ना हो सकता है आसान

आगे पढ़ें







Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *